कुएं का भूत | A Ghost in the Well | Kuwe Ka Bhoot

  • by
Kuwe Ka Bhoot

यह कहानी एक गांव की है , उस गांव में एक बहुत पुराना कुआं था गांव के लोग उस कुए का इस्तेमाल बिल्कुल भी नहीं करते.. क्योंकि उन लोगों का मानना था कि उस कुएं में कोई भूत रहता है.. भूत के डर से कोई भी उस कुएं के पास नहीं जाते..

(कुछ बच्चे कुएं के पास खेल रहे हैं )

 कुछ बच्चे कुए के पास खेल रहे थे तभी उनकी बॉल जाकर कुए के अंदर गिर जाती है…

गोलू :  यार यह तूने क्या किया यह तो कुएं में चली गई..

 बंटी : चलो चल कर देखते हैं..

दोनों कुएं के पास जाते हैं…

 भूत : हा हा हा हा हा हा हा हा…

( बंटी को अंदर ले कर चले  जाता है )

 गोलू :  बंटी मेरे दोस्त बाहर निकलो.. तुम कहां हो.. कहां हो तुम..

 गोलू चीखता रहता है पर  कुए से कोई भी आवाज नहीं आती.. गोलू घबराकर कुए के पास से चला जाता है और गांव वालों को कुए की बात बताता है..

( बात बताने की म्यूजिक सीन )

 मुखिया : आज से तुम लोग वहां नहीं खेलोगे और अब से कोई भी कुएं के पास नहीं जाएगा.. चलो सब अभी गोलू को देख कर आते हैं..

मुखिया जी गांव के कुछ लोगों के साथ उस कुएं के पास जाते हैं वह जाकर देखते हैं कि कुआं पूरा पानी से भरा हुआ है .. उन्हें गोलू कहीं भी नहीं दिखाई देता.. सभी उदास होकर वहां से चले जाते हैं..

(गांव वाले नेक्स्ट सीन )

 आदमी 1 : उस कुएं के पास जाना बहुत खतरनाक है.. वहां लोग जाते ही गायब हो रहे हैं..

 आदमी 2 : तुमने बिल्कुल सही कहा.. उस कुएं के पास जाना मतलब अपनी जान से हाथ धो बैठना है..

उस कुएं के बारे में सभी तरह तरह की बातें करने लगते हैं…

 एक दिन…

 एक चरवाहा अपनी कुछ बकरियों के साथ कुएं के पास से गुजर रहा था.. तभी उसकी एक बकरी कुए के बिल्कुल नजदीक चली जाती है.. और बकरी के जाते ही हुए के अंदर से वह भूत बाहर आकर बकरी को लेकर वापस कुए के अंदर चला जाता है…

(चरवाहा मुखिया जी के पास )

 चरवाहा : सरकार… सरकार… उसने मेरे सामने ही मेरे बकरी को गायब कर दिया.. उसने मेरे बकरी को कुए के अंदर खींच लिया..

 मुखिया जी : मैंने तुम लोगों से उस कुएं के पास जाने को मना किया था ..

चरवाहा : सरकार मैं तो दूर से ही चरा रहा था मेरी बकरी कुए के बिल्कुल पास पहुंच चुकी थी और उस भूत ने उसे गायब कर दिया..

गोलू : क्यों ना हम एक बार उस कुए के अंदर जाकर देखें…??

मुखिया जी : तुम बीच में मत बोलो.. तुम अभी बच्चे हो..वहां अगर कोई इंसान गया तो वह भूत उसे भी बाकियों की तरह गायब कर देगा..

गोलू उदास होकर अपने घर लौट जाता है..

( गोलू घर में)

(गोलू उदास )

 गोलू के पापा :  क्या हुआ बेटा तुम उदास क्यूं हो ?

 गोलू : पापा उस कुएं के भूत ने सभी को परेशान कर रखा है.. और कोई भी कुछ नहीं कर पा रहा है..

पापा : बेटा तो क्या करें..?

 गोलू :पापा हमें जाकर उस कुए को देखना चाहिए.. मेरा दोस्त बंटी उस कुएं मैं गायब हो चुका है.. मुझे जानना है कि वह कहां है…

 पापा :बेटा उसके बारे में सोचना बंद करो.. हम नहीं जा सकते कुएं के पास..

गोलू वहां से अपने कमरे में चला जाता है…

 गोलू : मुझे उस कुए के भूत का पता करना होगा.. और अपने दोस्त बंटी को वापस भी तो लाना है.. मुझे कुछ करना ही होगा..

दूसरे दिन गोलू कुएं के पास जाता है और एक पेड़ के पीछे छुपकर कुए की तरफ देखता रहता है..  थोड़ी देर बाद हुए क्या अंदर से चेहरे पर ऑक्सीजन मास्क लगाए एक इंसान बाहर आता है… और पास ही पेड़ के पीछे कपड़े बदल कर वहां से चला जाता है..

 गोलू : अब मैं समझा.!  इस कुएं में कोई भी भूत नहीं है.. यह तो हमारे गांव का ही इंसान है..मुझे जल्दी जा कर यह बात सबको बतानी होगी..

 गोलू जाकर सभी गांव वालों से कुए की बात बता देता है..

 गोलू : मुखिया जी उस कुएं में कोई भूत नहीं है.. मैंने धनिया चाचा को उस कुएं से बाहर आते देखा है..

 मुखिया : तो यह बात है अभी के अभी धनिया को पकड़ कर लेकर आओ..

( कुछ ही देर मैं दो पहरेदार धनिया को लेकर आते हैं)

 मुखिया : मुझे पूरी बात बताओ धनिया..

 धनिया : हां मालिक हम ही थे कुए के अंदर ..

 मुखिया : लेकिन कुए के अंदर कैसे..??

 धनिया : मालिक हमने कुए के अंदर एक कांच का मकान बनाया हुआ है..  कुए के अंदर मैं और राजू रहता था.. और जो भी हुआ के पास से जाता अपनी बनाई मशीन से उनका सामान अंदर खींच लेता… 

 मुखिया : लेकिन तुम तो इंसानों को भी गायब कर देते हो..

 धनिया : जिस दिन गोलू और बंटी कुआं के पास आए थे.. उस दिन हम बस उन्हें डराना चाहते थे लेकिन हमारे मशीन ने बंटी को अंदर खींच लिया.. बंटी के जाने से सबको हमारे बारे में पता लग जाएगा इसलिए हमने बंटी को कैद कर लिया..

 मुखिया : पहरेदार… जल्दी जाओ और राजू को भी यहां पकड़ कर ले आओ और उसके बाद इन दोनों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाएगी..

मुखिया : तो बच्चों आप सबको आज की कहानी कैसी लगी? हमें कभी अंधविश्वास पर भरोसा नहीं करना चाहिए.. और हर समस्या का समाधान अपनी बुद्धि से करनी चाहिए.. यह कहानी आपको पसंद आई तो इसे लाइक जरुर करें और हमारे चैनल को सब्सक्राइब करें रेड बटन पर क्लिक करके…